निजी व सरकारी बसों में बज रहे प्रेशर हॉर्न राहगीर व यात्री हो रहे विचलित

66

रजनीश शर्मा 
पुलिस ने दिया कार्यवाही का अल्टीमेटम 
हमीरपुर
: हमीरपुर जिला से निकले नेशनल हाईवे, स्टेट हाइवे, व्यस्तम बाजार वाली सड़क या मुख्य मार्ग या फिर गली-मोहल्लों की सड़क हों। दिन भर तेज आवाज के हॉर्न बजाने वाले वाहन सरपट गति से दौड़ते रहते हैं। यात्री बसों के चालक भी तेज गति से वाहन दौड़ाने के साथ प्रेशर हॉर्न बजाकर राहगीरों को विचलित करने से बाज नहीं आते हैं। हद तो तब हो जाती है जब ट्रैफ़िक नियमों की धज्जियाँ एचआरटीसी की बसों में भी उड़ाई जाती है। निजी बस चालक तो प्रेशर हॉर्न बजाना बस की पहचान के साथ जोड़ते हैं।

हमीरपुर में जब एचआरटीसी की अमृतसर से हमीरपुर बस में रंगस के पास चालक को प्रेशर हॉर्न बजाते रिकार्ड किया गया तो इसकी शिकायत पुलिस से की गयी । इसी तरह अवाह देवी से हमीरपुर आ रही निजी बस के चालक की शिकायत भी पुलिस से की गयी । चालक बिना वर्दी , बिना सीट बेल्ट लगाए , प्रेशर हॉर्न बजाते हुए हमीरपुर की तरफ़ आ रहा था ।

आपको बता दें कि बसों में सफर करने वाले यात्रियों को गर्मी के इस मौसम में प्रेशर हॉर्न से दिक्कत उठानी पड़ती है। बुजुर्ग यात्रियो को हॉर्न बजने के दौरान दोनों कानों से हाथ लगाना पड़ता है। 

जानकारी के अनुसार बाजार में 120 से 180 डेसीबल तक के हॉर्न की बिक्री धड़ल्ले से हो रही है। जबकि मोटर व्हीकल एक्ट के तहत 20 से 25 डेसीबल क्षमता के हॉर्न ही दो पहिया, चार पहिया वाहनों पर लगे होना चाहिए। नियमों का उल्लंघन करने पर वाहन चालकों के विरूद्ध ध्वनि प्रदूषण फैलाने की कार्रवाई होनी चाहिए। 

वहीं इस बारे में डीएसपी हमीरपुर हितेश लखनपाल ने कहा कि वाहनों की जांच के साथ ही प्रेशर हॉर्न वाले वाहनों की भी अब नियमित रूप से जांच की जाएगी। इस दौरान जिस वाहन में प्रेशर हॉर्न मिलेगा, तो उसके विरूद्ध कड़ी कार्रवाई की जाएगी। इस बारे एचआरटीसी के आरएम को लिखा जाएगा ताकि प्रेशर हॉर्न हटायें जायें ।